PAupdate icon

 

Just updated and released is the new Issue of the  Protected Area Update, No. 106 December 2013 (Vol. XIX No. 6). The issues are edited by Pankaj Sekhsaria. Back issues can be browsed at the Protected Area Update section. Other Outreach Newsletters, People in Conservation, can also be accessed from the Documentation Center

 

Subscribe to  Protected Area Update Newsletter on  yahoo / Please do join our conversations  on facebook

conversations on 

Various articles covering different aspects of the environment and conservation : Read here

 

'What Has Globalisation Meant for India? Economic globalisation since 1991 has caused enormous environmental damage, and made the situation of India's poorest people worse. This brochure shows how. (Also available in hard copy from Kalpavriksh at Rs. 40). Globalization Brochure (Hindi)

भारत में वैश्वीकरण: प्रभाव और विकल्प

पिछले दो दशकों के दौरान हमारे देश ने जबर्दस्त आर्थिक तरक्की की है। लेकिन इस कामयाबी का एक अंधकारमय पैलू भी है जो हमारी नजरों से ओझल या अनजान छूट गया है। मुल्क की आधी से ज्यादा आबादी या तो तरक्की की इस दौड़ में पिछे छूट गई है या इस तरक्की की कीमत चुका रही है। पर्यावरण को जो स्थायी नुकसान पहुंचा है सो अलग। वैश्विक विकास का मौजुदा ताना-बाना न तो पर्यावरणीय स्तर पर टिकाऊ है और न ही सामाजिक समानता के लिए अनुकूल है। ये हिंदुस्तान को और ज्यादा तीखे टकरावों व कष्टों की ओर धकेल रहा है। लेकिन दूसरी ओर हमारे सामने कई ऐसे वैकल्पिक तौर-तरीके और रास्ते भी हैं जिन पर चलते हुए हम धरती की सेहत को नुकसान पहुंचाए बिना एक ज्यादा समतापरक व खुशहाल भविष्य की तरफ बढ़ सकते है। यह रास्ता एक मूलभूत पर्यावरणीय लोकतंत्र का हिस्सा है।

प्रस्तुत प्रकशन में सबसे पहले हमने भारत में वैश्वीकरण के आर्थिक, सामाजिक और पर्यावरणीय आयामों के बारे में कुछ तथ्य दिए हैं। इसके बाद हमने उसके पर्यावरणीय प्रभावों का एक विस्त्रुत लेखा-जोखा तथा एक बेहतर भविष्य की ओर जाने वाले वैकल्पिक रास्ते सुझाए हैं।

Announcement Brochure (Hindi & English)